Skip to main content

Posts

Showing posts from February, 2015

पर्यावरण संरक्षण और टिकाऊ विकास | Environment Conservation and Sustainable Development

ILLUSTRATION BY PETE ELLIS/DRAWGOOD.COM पर्यावरण संरक्षण और विकास का आपस में बहुत सुग्रथित सम्बन्ध है। वो इसलिए क्यूंकि शायद हमारे विकास के मौजूदा प्रतिमान ने पर्यावरण को बहुत नुक्सान पहुचाया है। पर मेरे विचार से पर्यावरण का संरक्षण भी उस हवाई विकास के जंजाल में हमको फसाने का एक नया तरीका मात्र है, असल ज़रूरत है पर्यावरण की रक्षा करने की । हमारी प्राथमिकता इलाज नहीं उस समस्या को रोकने की होनी चाहिए । पर्यावरण संरक्षण और मजूदा विकास में इसकी भूमिका को समझने के लिए हमें टिकाऊ विकास के पर्यावरणीय, सामाजिक और अर्थशास्त्रीय मॉडलों में GDP आधारित मॉडल को समझना भी ज़रूरी है जिसे बाद के खण्डों में विस्तृत रूप से समझाने का प्रयास किया गया है । इससे पहले पर्यावरण संरक्षण एवं विकास पर आधारित कुछ तथ्यों पर विचार कर लेना ज़रूरी है। भारत: एक प्रकृति सेवक से विकास शील देश तक सन 1730, ग्राम खेजरली-जोधपुर, राजस्थान में बिश्नोई प्रजाति के 363 पुरुष, महिलाएं एवं बच्चों ने पेड़ों की रक्षा करते हुए राजा के सिपाहिओं के हाथों अपनी जान गवाई। पर्यावरण की रक्षा के लिए ये वाक्य

State must ensure water accessibility to all: Bombay HC | SANDRP, Counter View

   Posted on January 19, 2015 by SANDRP  Original Link: https://sandrp.wordpress.com/2015/01/19/state-must-ensure-water-accessibility-to-all-bombay-hc/ Blog by Debadityo Sinha  ( debadityo@gmail.com ) (with inputs from Himanshu Thakkar (SANDRP)) In a landmark judgment dated Dec 15, 2014, Mumbai High Court bench of Justices Abhay S Oka & A S Gadkari have ruled: “Right to get water is an integral part of right to life under Article 21 of the Constitution of India…” A rejoiced Sitaram Shelar [1] of petitioner Pani Haq Samiti noted in press release on the day of the judgment, “Reinforcing the intrinsic relationship between water and life, the judgment established that the right to water is as fundamental as the right to life… Pani Haq Samiti will continue the struggle towards ensuring that those living in slums access their right to water.”